कार्य-सिद्धि योग सन् 2016

     
     
     
     

जनवरी सन् 2016

जनवरी सन् 2016

कार्य-सिद्धि योग

06 जनवरी को प्रात: 07.27 से देर रात्रि 06.45 तक

07 जनवरी को सूर्योदय से प्रात: 08.57 तक

10 जनवरी को 09.42 से देर रात्रि 06.45 तक

11 जनवरी को प्रात: 08.58 से देर रात्रि 06.45 तक

15 जनवरी को देर रात्रि 02.33 से देर रात्रि 06.46 तक

17 जनवरी को सूर्योदय से रात्रि 11.58 तक

19 जनवरी को सूर्योदय से रात्रि 09.46 तक

20 जनवरी को समस्त

22 जनवरी को रात्रि 08.00 से देर रात्रि 06.45 तक

24 जनवरी को सूर्योदय से रात्रि 08.44 तक

अमृत सिद्धि योग

06 जनवरी को प्रात: 07.27 से देर रात्रि 06.45 तक

15 जनवरी को देर रात्रि 02.33 से देर रात्रि 06.46 तक

सर्वदोषनाशक रवि योग

01 जनवरी को सूर्योदय से रात्रि 08.28 तक।

12 जनवरी को देर रात्रि 06.40 से 13 जनवरी को देर रात्रि 05.19 तक।

14 जनवरी को देर रात्रि 03.56 से 15 जन. को देर रात्रि 02.33 तक।

17 जनवरी को देर रात्रि 11.58 से 18 जनवरी को रात्रि 08.48 तक।

21 जनवरी को रात्रि 08.18 से 22 जनवरी को रात्रि 08.00 तक।

30 जनवरी को प्रात: 07.46 से 31 जनवरी को दिन 10.52 तक।

द्विपुष्कर (दो गुना फल) योग

30 जनवरी को सायं 05/06 से देर रात्रि 06/42 तक

31 जनवरी को प्रात: 06/43 से दिन 10/52 तक

त्रिपुष्कर (तीनगुना फल) योग

10 जनवरी को देर रात्रि 05.41 से देर रात्रि 06.45 तक

रवि पुष्य योग

24 जनवरी को प्रात: 06/45 से रात्रि 20/44 तक

 

 

 

विघ्नकारक भद्रा ( भद्रा योग में कोई भी शुभ कार्य न करें )

01 जनवरी को प्रात: 08.24 तक

04 जनवरी को सायं 04.11 से देर रात्रि 05.15 तक।

08 जनवरी को प्रात: 08.15 से रात्रि 08.05 तक

13 जनवरी को दिन 01.08 से रात्रि 12.07 तक

16 जनवरी को सायं 05.57 से देर रात्रि 04.58 तक

19 जनवरी को रात्रि 11.33 से 20 जनवरी को दिन 10.45 तक

23 जनवरी को प्रात: 07.33 से सायं 07.25 तक

26 जनवरी को रात्रि 09.12 से 27 जनवरी को प्रात: 09.57 तक

30 जनवरी को सायं 05.06 से देर रात्रि 06.26 तक

पंचक ( पंचक योग में कोई भी शुभ कार्य न करें )

12 जनवरी को सायं 07.19 से 16 जनवरी को देर रात्रि 01.14 तक

 

 

कार्य-सिद्धि योग सन् 2015

top