हिन्दी के कवि

बालकवि बैरागी

(जन्म 1933 ई.)

 बालकवि बैरागी का जन्म मंदसौर जिले की मनासा तहसील के रामपुर गांव में हुआ। विक्रम विश्वविद्यालय से हिन्दी में एम.ए. किया। ये राजनीति एवं साहित्य दोनों से जुडे रहे। मध्यप्रदेश सरकार के मंत्री तथा लोकसभा के सदस्य रहे तथा हिन्दी काव्य- मंचों पर भी लोकप्रिय रहे। इनकी कविता ओजगुण सम्पन्न हैं। मुख्य काव्य-संग्रह हैं : 'गौरव-गीत, 'दरद दीवानी, 'दो टूक, 'भावी रक्षक देश के आदि।
मेरे देश के लाल
पराधीनता को जहां समझा श्राप महान
कण-कण के खातिर जहां हुए कोटि बलिदान
मरना पर झुकना नहीं, मिला जिसे वरदान
सुनो-सुनो उस देश की शूर-वीर संतान

आन-मान अभिमान की धरती पैदा करती दीवाने
मेरे देश के लाल हठीले शीश झुकाना क्या जाने।

दूध-दही की नदियां जिसके आंचल में कलकल करतीं
हीरा, पन्ना, माणिक से है पटी जहां की शुभ धरती
हल की नोंकें जिस धरती की मोती से मांगें भरतीं
उच्च हिमालय के शिखरों पर जिसकी ऊंची ध्वजा फहरती

रखवाले ऐसी धरती के हाथ बढाना क्या जाने
मेरे देश के लाल हठीले शीश झुकाना क्या जाने।

आजादी अधिकार सभी का जहां बोलते सेनानी
विश्व शांति के गीत सुनाती जहां चुनरिया ये धानी
मेघ सांवले बरसाते हैं जहां अहिंसा का पानी
अपनी मांगें पोंछ डालती हंसते-हंसते कल्याणी

ऐसी भारत मां के बेटे मान गंवाना क्या जाने
मेरे देश के लाल हठीले शीश झुकाना क्या जाने।
जहां पढाया जाता केवल मां की खातिर मर जाना
जहां सिखाया जाता केवल करके अपना वचन निभाना
जियो शान से मरो शान से जहां का है कौमी गाना
बच्चा-बच्चा पहने रहता जहां शहीदों का बाना
उस धरती के अमर सिपाही पीठ दिखाना क्या जाने
मेरे देश के लाल हठीले शीश झुकाना क्या जाने।

अपनी गंध नहीं बेचूंगा
चाहे सभी सुमन बिक जाएं
चाहे ये उपवन बिक जाएं
चाहे सौ फागुन बिक जाएं
पर मैं गंध नहीं बेचूंगा- अपनी गंध नहीं बेचूंगा

जिस डाली ने गोद खिलाया जिस कोंपल ने दी अरुणाई
लक्षमन जैसी चौकी देकर जिन कांटों ने जान बचाई
इनको पहिला हक आता है चाहे मुझको नोचें तोडें
चाहे जिस मालिन से मेरी पांखुरियों के रिश्ते जोडें

ओ मुझ पर मंडरानेवालों
मेरा मोल लगानेवालों
जो मेरा संस्कार बन गई वो सौगंध नहीं बेचूंगा
अपनी गंध नहीं बेचूंगा- चाहे सभी सुमन बिक जाएं।

मौसम से क्या लेना मुझको ये तो आएगा-जाएगा
दाता होगा तो दे देगा खाता होगा तो खाएगा
कोमल भंवरों के सुर सरगम पतझारों का रोना-धोना
मुझ पर क्या अंतर लाएगा पिचकारी का जादू-टोना
ओ नीलम लगानेवालों
पल-पल दाम बढानेवालों
मैंने जो कर लिया स्वयं से वो अनुबंध नहीं बेचूंगा
अपनी गंध नहीं बेचूंगा- चाहे सभी सुमन बिक जाएं।

मुझको मेरा अंत पता है पंखुरी-पंखुरी झर जाऊंगा
लेकिन पहिले पवन-परी संग एक-एक के घर जाऊंगा
भूल-चूक की माफी लेगी सबसे मेरी गंध कुमारी
उस दिन ये मंडी समझेगी किसको कहते हैं खुद्दारी
बिकने से बेहतर मर जाऊं अपनी माटी में झर जाऊं
मन ने तन पर लगा दिया जो वो प्रतिबंध नहीं बेचूंगा
अपनी गंध नहीं बेचूंगा- चाहे सभी सुमन बिक जाएं।

मुझसे ज्यादा अहं भरी है ये मेरी सौरभ अलबेली
नहीं छूटती इस पगली से नीलगगन की खुली हवेली
सूरज जिसका सर सहलाए उसके सर को नीचा कर दूं?
ओ प्रबंध के विक्रेताओं
महाकाव्य के ओ क्रेताओं
ये व्यापार तुम्हीं को शुभ हो मुक्तक छंद नहीं बेचूंगा
अपनी गंध नहीं बेचूंगा- चाहे सभी सुमन बिक जाएं।

 

 

 

 

top